प्रत्येक बार जब आप ईश्वर का गहन ध्यान करते हैं, तो आपके मस्तिष्क के खांचों में लाभकारी परिवर्तन उत्पन्न होते हैं।

— परमहंस योगानन्द

6 फ़रवरी को वाईएसएस संन्यासियों द्वारा छः घंटे के ध्यान का संचालित किया गया। ध्यान का आरंभ शक्ति संचार व्यायाम के अभ्यास से हुआ, जिसके बाद प्रेरक पठन, ध्यान और चैंटिंग के सत्र शामिल थे। ध्यान का समापन गुरुजी की आरोग्यकारी प्रविधि तथा समापन प्रार्थना से हुआ।

इस कार्यक्रम का संचालन दो सत्रों में किया गया:

प्रथम सत्र : सुबह 6:10 बजे से 9:30 बजे तक (भारतीय समयानुसार)
अंतराल :
सुबह 9:30 बजे से 10:00 बजे तक (भारतीय समयानुसार)
द्वितीय सत्र : सुबह 10:00 बजे से दोपहर 12:30 बजे तक (भारतीय समयानुसार)